Tuesday, September 14, 2010

मासूम सा मन था वो क्यों सोया

त्रिवेणी -कहते हैं शायद इसे

कभी तन्हाईओं में वो गले लगकर इतना रोया


मासूम सा मन था वो क्यों सोया


हिचकियों की आवाजें अभी तक आ रही हैं कहीं दूर से

5 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ....
    अच्छी पंक्तिया सृजित की है आपने ........
    भाषा का सवाल सत्ता के साथ बदलता है.अंग्रेज़ी के साथ सत्ता की मौजूदगी हमेशा से रही है. उसे सुनाई ही अंग्रेज़ी पड़ती है और सत्ता चलाने के लिए उसे ज़रुरत भी अंग्रेज़ी की ही पड़ती है,
    हिंदी दिवस की शुभ कामनाएं

    एक बार इसे जरुर पढ़े, आपको पसंद आएगा :-
    (प्यारी सीता, मैं यहाँ खुश हूँ, आशा है तू भी ठीक होगी .....)
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_14.html

    ReplyDelete
  2. ..बहुत खूब।
    ..इस ब्लॉग में देर से आने का अफसोस है।

    ReplyDelete
  3. त्रिवेणी -कहते हैं शायद इसे


    :)
    ji nilam ji...

    ReplyDelete
  4. नीलम जी,
    बहुत बढ़िया प्रयास है, थोड़े प्रयत्न से आप बहुत सुन्दर त्रिवेणी रच सकती हैं. शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  5. नीलम जी

    हिचकियों की आवाजें अभी तक आ रही हैं कहीं दूर से
    वाह क्या ख़ूब !

    कहते हैं न …
    कभी तनहाइयों में हमारी याद आएगी …
    :)


    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete