Wednesday, April 13, 2011

उसकी सूरत और सीरत अभी तक एक थी

ये किस दिल की दुआ थी ,
ये किसकी नेमत थी ,

उसकी सूरत और सीरत अभी तक एक थी

2 comments:

  1. :)

    किसी नन्हे से फ़रिश्ते की दुआ शायद.....

    जो अब तक सूरत और सीरत एक सी हैं...

    ReplyDelete